डायबिटीज{diabetes}डायबिटीज (शुगर) के रोगी डॉक्टरो के चक्कर लगाना बंद करे, और ये देशी दवा लें - T-Macro Health

T-Macro  Health

ज्ञान बढाये जान बचाने स्वास्थ्य ही जीवन है आयुर्वेदाचार्य एवं आहार बिहार विशेषज्ञ ��हमारा स्वास्थ हमारे हाँथ �� निर्णय सिर्फ आपके हाँथ

Offers for you

डायबिटीज{diabetes}डायबिटीज (शुगर) के रोगी डॉक्टरो के चक्कर लगाना बंद करे, और ये देशी दवा लें

Share This

डायबिटीज (शुगर) के रोगी डॉक्टरो के चक्कर लगाना बंद करे, और ये देशी दवा लें


अगर आपके शरीर में शुगर की बीमारी है मतलब डाइबिटिज की बीमारी है तो भगवान ने उसको ठीक करने की दवा भी आपके घर में दे राखी है. डाइबिटिज अगर ठीक करना है तो घर में मौजूद मैथीदाना लीजिए उसको पीसकर पाउडर बनाइए. मैथीदाने के साथ थोडा करेला लीजिए. करेले को धुप में सुखाकर उसका पाउडर बना लीजिए. अगर आपके घर में जामुन की गुठली मिले तो उसे सुखाकर उसकी गुठली का पाउडर बना लीजिए. अगर जामुन घर में है तो ठीक है नही तो बाजार से जामुन खरीद सकते है. फिर आपके आसपास नीम के पेड़ होंगे तो उसकी निम्बोली को सुखाकर उसका पाउडर बना लीजिए. और बेलपत्थर के पत्ते सुखाकर उसका भी पाउडर बना लीजिए.


अब हमारे पास मैथी दाने का पाउडर, जामुन की गुठली का पाउडर, नीम की निम्बोली का पाउडर, बेलपथर के पट्ठे का पाउडर और करेले का पाउडर ये पांच चीज का पाउडर मिलाकर इसे गुद्मार्क के साथ मिला लें, गुद्मार्क एक घास होती है जो किसी भी किराने की दुकान पर मिल जायेगी. इन सभी दवाओं को बराबर मात्रा में भरकर एक शीशी में रख लीजिए. ये डाइबिटिज की बहुत अच्छी दवा है.


कैसे लें – इसे एक चम्मच गर्म पानी के साथ सुबह और एक चम्मच शाम को लें. वो भी खाने से लगभग एक घंटे पहले, अगर आपने नियमित रूप से इसे लेना शुरू किया तो इस दवा से आपकी शुगर आपकी डाइबिटिज हमेशा के लिए ठीक हो जाएगी. और फिर अगर आप सामान्य रूप से आधे-आधे घंटे अनुलोम विलोम और कपालभाती करते रहे सुबह और शाम दोनों वक्त तो आपकी शुगर और जल्दी ठीक हो जाएगी. और जब आपकी शुगर ठीक हो जाए या सामान्य हो जाए तब आप ये दवा बंद कर दे. और प्रणायाम चालू रखिएगा तो प्राणायाम की मदद से जिंदगी भर दोबारा कभी भी डाइबिटिज नही होगी.

No comments:

Post a Comment